Check to restrict your search with:
Menu

Vyāsa-pūjā
1984

Śrī Kṛṣṇa (Kathmandu - Nepal)

जय श्रील आचार्यपाद ।

नम ॐ विष्णुपादाय कृष्णप्रेष्ठाय भूतले ।
श्रीमते जयपताका स्वामिनिति नामिने ।।

चरण स्पर्श, सादर प्रणाम, 
कृष्ण कृपा एवं गूरू कृपाद्वरा आपके चरण कमलमे दो अक्षर लिख रहा हुँ । श्रील आचार्यपाद अन्धकार रुपी जगत मे प्रकाश फैलने के लिए उपस्थित हुए । कलियुग मे ऐसा होना अति शुभ माना जा सकता है । इसिलिए मै गुरूदेवको बारम्बार प्रणाम करता हुँ । मै आपके चरणके धुली के समान हुँ और हमेशा रहुगाँ । आपकी सेवा मै पुरी तरह से करता रहुँगा । मेरी सिर्फ एक विनती है एक मन्दिर नेपाल मे भी खोला जाय ताकि नेपाली भक्त वहुत बन जाय । 

आपका आज्ञाकारी शिष्य,
श्री कृष्ण 
(कमलादी, काठमाण्डौ, नेपाल)