Check to restrict your search with:
Menu

Vyāsa-pūjā
1984

Bhakta Tulasī (Kathmandu - Nepal)

जय जय श्री आचार्यपाद आपके चरणोमे बार बार प्रणाम ।

मै आपकी कृपा छाया मे रहकर आशिर्वाद पानेकी आशा करता हुँ । कृष्णसेवाकी अभिलाषा लेकर मै घरबार त्याग दिया और मे श्रीकृष्णके धाम पर आया । लेकिन मेरी विद्या नही है और बल भी नही है । आप पतितपावन है । इस पतित को भवसमुद्रसे उठाकर पावन कर दीजिए । श्री राधाकृष्ण जी की कैसे सेवा करनी है, मुझे मालुम नही है, बता दीजिए । 

आपके चरणसेवामे , 

भक्त तुलसी । 
(इस्कोन नेपाल संकीर्तन पार्टी, जनकपुर धाम)